मेरे बचपन का प्यार रूबी – भाग 15 – कहानी का अंतिम दूसरा भाग

जोरदार पंद्रह बीस धक्के गांड में लगाए और ये सोच कर की रूबी को चूत में मजा दूं लंड निकाला एक झटके से चूत में धकेल दिया।

Read more

मेरे बचपन का प्यार रूबी – भाग 13 – रितु की मर्ज़ी की चुदाई

रितु बंद कर अपनी ये बक बक नहीं तो माल रोड तो जाएगा भाड़ में, अभी के अभी फिर से चुदाई करवानी पड़ जाएगी। फिर रूबी ने रितु के नंगे चूतड़ों पर जोरदार चपत लगाई.

Read more

मेरे बचपन का प्यार रूबी – भाग 12 – असली क्या और नक़ली क्या नक़ली

रूबी बोली, “सच पूछो विक्की तो असली चुदाई एक ही तरीके से होती है। औरत नीचे, चूतड़ों के नीचे तकिया, चूत को ऊपर उठाने के लिए।

Read more

मेरे बचपन का प्यार रूबी – भाग 11 – शनिवार के रात सेक्स टॉयज़ का धमाल

अगर कभी औरत की चूत गीली हो जाए और उसमें खुजली मच जाए तो जब तक वो चूत चुद ना जाये और झड़ ना जाए औरत को चैन नहीं लेने देती।

Read more

मेरे बचपन का प्यार रूबी – भाग 9 – रूबी की ‘हां’ और और रितु की लंड चुसाई

दिन की रोशनी में गांड का छेद दिखाई दे रहा था। गुलाब की छोटी गोल पंखुड़ी जैसे रितु की गांड की छेद के किनारे कल रात की गांड चुदाई के कारण लाल हुए पड़े थे।

Read more

मेरे बचपन का प्यार रूबी – भाग 8 – रितु की काम क्रीड़ा

रितु की टाइट चूत – उतनी ही टाइट गांड। रितु की गांड का गुलाबी छेद मेरी आँखों के आगे घूम रहा था – गुलाब के फूल की पंखुड़ी जैसा छोटा सा बंद गुलाबी गांड का छेद।

Read more

मेरे बचपन का प्यार रूबी – भाग 7 – रितु की कुंवारी गांड की चुदाई

मैंने रूबी से कहा, “रूबी, रितु की गांड अब तक चुदी नहीं है, बहुत टाइट है। ये घबरा कर गांड का छेद बंद भी कर रही है जिससे लंड अंदर नहीं बैठ रहा”

Read more

मेरे बचपन का प्यार रूबी – भाग 6 – दिन में क्लब में रूबी से लंड चुसाई

रूबी ने झीनी नाईटी पहनी हुई थी, नीचे ना ब्रा पहनी थी ना चड्डी पहनी थी। चूचियां, निप्पल, चूत और चूतड़ों की लाइन सब दिखाई दे रहे थे.

Read more